नई दिल्ली, 09-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज, टी वी चैनल आज तक के कार्यक्रम ई-एजेंडा की तीसरी कड़ी जान भी जहान भी में कोविड19 की चुनौतियों व सरकार के एक्शन प्लान पर चर्चा करते हुए एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि भारत की आबादी 135 करोड़ है जो कि दुनिया के 30 बड़े देशों के बराबर है। इस दृष्टि से देखें तो दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले भारत बहुत बेहतर स्थिति में है। जहां कोरोना के कुल 56 हजार मामले हैं जिनमें से 17 हजार लोग ठीक होकर खुशी-खुशी अपने घरों को जा चुके हैं,लोकिन दुर्भाग्यपूर्ण रूप से 1800 लोगों की इस महामारी से मौत हो गई है।



डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी देश के लोगों को कोविड19 से बचाने के लिए, उनकी रक्षा के लिए पिछले 4 महीनों से दिन रात पूरी जिम्मेदारी के साथ नेतृत्व कर रहे हैं, हर छोटी-छोटी बात के लिए बैठक कर रहे हैं, राष्ट्र के नाम सन्देश दे रहे हैं और उन्होंने लॉक डाउन से पहले जो जनता कर्फ्यू का आह्वान किया वह तो दुनिया के सामने अनुकरणीय उदाहरण है।

दुनिया के साथ-साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारत की रणनीतियों की प्रशंसा करी है। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि हमने कोविड19 के खिलाफ युद्ध को सबसे पहले प्रारम्भ किया जिसमें देश के सभी लोगों ने अनुशासन दिखाते हुए प्रधानमंत्री जी व स्वास्थ्य मंत्रालय के सभी निर्देशों का गंभीरता से पालन किया।

उन्होंने कहा कि दिल्ली, अहमदाबाद और मुंबई की स्थिति निश्चित रूप से चिंता का विषय है। इन शहरों में भीड़भाड़ वाले इलाके, स्लम्स व संकरी गलियां हैं, जिसके कारण वहां लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन पूरी तरह से नहीं हो पा रहा है।

जब तक हमारे पास कोविड19 के खिलाफ़ वैक्सीन उपलब्ध नहीं है तब तक सोशल डिस्टेंसिंग सबसे महत्वपूर्ण वैक्सीन के रूप में समाज की सहायता कर सकती है। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि इस सोशल वैक्सीन के उपयोग से हम काफी हद तक सुरक्षित हो सकते हैं। जब तक कोविड19 के खिलाफ़ वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो जाता सोशल डिस्टेंसिंग ही एक वैक्सीन के रूप में हमारा बचाव करेगा।

उन्होंने कहा कि भारत ने दुनिया को दिखा दिया है कि जब भी किसी बड़ी बीमारी का प्रकोप हुआ है, हमने उस पर विजय पायी है। पोलियो जैसी बीमारी को हमने जड़ से उखाड़ फेंका है। कोविड19 के खिलाफ़ ज़ंग में भी हमें जीत मिलेगी।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि मज़दूरों की वापसी को लेकर दिशा निर्देश बनाए गए हैं, जिसमें हमने इन बातों का ध्यान रखा है कि संक्रमण न फैले।

लॉकडाउन के दौरान कुछ ढील दिए जाने पर उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को लोगों के स्वास्थ्य के साथ-साथ देश की अर्थव्यवस्था की भी चिंता है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाले कुछ हफ़्तों में ग्राफ़ न सिर्फ़ फ्लेट ही नहीं बल्कि रिवर्स भी होगा।