Golwalkar’s life was source of inspiration for people: Dr Harsh Vardhan


माधव सदाशिवराव गोलवलकर (गुरूजी) का जीवन है प्रेरणा का स्रोत: डॉ हर्ष वर्धन



रविवार, 17 फरवरी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री माधव सदाशिवराव गोलवलकर की 19 फरवरी को जन्म जयंती के पूर्व, दिल्ली के पश्चिम विहार में आयोजित 51 कुंडीय विशाल महायज्ञ कार्यक्रम संपन्न हुआ जिसमें केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान तथा पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन शामिल हुए। धार्मिक प्रचार सेवा मंडल द्वारा आयोजित इस महायज्ञ का लक्ष्य अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर का निर्माण और लोगों का कल्याण था।



रविवार, 17 फरवरी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री माधव सदाशिवराव गोलवलकर की 19 फरवरी को जन्म जयंती के पूर्व, दिल्ली के पश्चिम विहार में आयोजित 51 कुंडीय विशाल महायज्ञ कार्यक्रम संपन्न हुआ जिसमें केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान तथा पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन शामिल हुए। धार्मिक प्रचार सेवा मंडल द्वारा आयोजित इस महायज्ञ का लक्ष्य अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर का निर्माण और लोगों का कल्याण था।

New Delhi, 17 February 2019: Union Minister for Science, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change, Dr Harsh Vardhan today participated at the 51th Kundiya Maha Yagna program, which was held two-day before the birth anniversary of Shri Madhav Sadashivrao Golwalkar, RSS’s Sarsanghchalak in Paschim Vihar. Conducted by the Dharmic Prachar Sewa Mandal, the purpose of this yagna was to strengthen the move for building the grand Ram temple in Ayodhya and the welfare of the people.

इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने माधव सदाशिवराव गोलवलकर जी के पूरे जीवन को प्रेरणा का स्रोत बताया और कहा कि संघ के आद्य सरसंघचालाक केशव बलिराम हेडगेवार जी के बाद वे 33 साल तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक के सरसंघचालक रहे और 33 वर्षों तक उन्होंने पूरे देश का भ्रमण किया। देश के एक-एक जिले के अंदर प्रत्येक साल वे कम से कम दो बार गए।

On this occasion, the Union Minister Dr. Harsh Vardhan described the life of Madhav Sadashivrao Golwalkar as the source of inspiration, and said after RSS founder Keshav Baliram Hedgewar, Golwalkar remained the chief of the outfit for 33 years and during these years, he visited almost every part of the country. And sometimes, Golwalkar who was fondly called as Guruji, had visited each district at least twice every year.

डॉ हर्ष वर्धन ने इसे अपना सौभाग्य बताते हुए कहा कि 50 साल पूर्व एक मई 1969 को वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बने थे। 2 महीने के बाद एक मई को उनकी संघ आयु के पूरे 50 वर्ष हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि 1971 में उन्होंने संघ का ओटीसी कैंप एटेंड किया और उस समय उन्हें तीन दिनों तक लगातार गुरूजी को सुनने का मौका मिला जिनकी बौद्धिकता, सात्विकता, ऊंचाई, महानता और दूरदर्शिता आज भी उनके जहन में है।

Speaking on the occasion, Dr Harsh Vardhan said that on May 1, 1969, 50 years ago, he became a volunteer of Rashtriya Swayamsevak Sangh. On May one, his association with RSS will turn 50 years. He said that in 1971, he took the OTC camp of the association and at that time he got the opportunity to listen to Guruji for three days, whose intellectualism, greatness and foresight are still fresh in his mind.

इस मौके पर डॉ हर्ष वर्धन ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सत्य हमेशा शाश्वत होता है। भगवान श्री राम ने जहां जन्म लिया, उस स्थान को भारत के लोग नहीं बदल सकते हैं। भगवान श्रीराम का जन्म स्थान देशवासियों के लिए आस्था का विषय है, इसमें कोई संदेह नहीं है| उन्होंने कहा कि इस 51 कुंडीय विशाल महायज्ञ से इस काम में और सात्विकता आ जाएगी|

Dr. Harsh Vardhan further said that truth is always eternal. People of India can’t change the place where Lord Rama was born. Lord Shri Ram's birth place is a matter of faith for the countrymen, there is no doubt in it. He said that this 51 Kundiya Maha Yagna will add power to struggle for Shri Ram’s birthplace.

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2022 तक भारत को न्यू इंडिया के सपने को साकार करने के लिए दिन रात मेहनत कर रहे हैं। वे भारत के भविष्य को अतीत से बेहतर बनाना चाहते हैं।

The Union Minister said Prime Minister Narendra Modi is working day in and day out to realise his dreams of making New India by 2022. He wants to make India's future better than the past.

कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले की चर्चा करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि इस ह्रदय विदारक घटना से पूरे देश में शोक है। 130 करोड़ देशवसियों के साथ वे इस दुख की घड़ी में भारत माता के वीर शहीद सपूतों के परिजनों के साथ खड़े हैं और कहा कि शहीदों का यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।