31 अक्टूबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज दिल्ली स्थित एयरोसिटी में Indian Society of Neuroradiology के 21वें वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन किया। इंडियन सोसाइटी ऑफ न्यूरोरेडियोलॉजी के वार्षिक सम्मेलन में, स्वास्थ्य क्षेत्र में Artificial intelligence के स्टार्ट-अप की प्रगति पर खुशी जताते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि Artificial intelligence में लागत को कम करने, पहुंच में सुधार और स्वास्थ्य सेवा की गुणवत्ता बढ़ाने की क्षमता है। न्यूरोरेडियोलॉजी हमें सड़क दुर्घटना, मस्तिष्क ट्यूमर के निदान की स्थितियों पर विस्तृत रूप से मदद करती है ।



अपने संबोधन में उन्होंने रेखांकित किया कि एक चिकित्सक के रूप में, यह देखना वास्तव में बहुत खुशी की बात है कि दिल्ली मेडिकल काउंसिल ने इस सम्मेलन को 25.5 सीएमई क्रेडिट पॉइंट दिया है जो सम्मेलन में सामग्री की गुणवत्ता का एक सबूत है। दुनिया के कई देशों का दौरा करने के बाद मै कह सकता हूँ कि हमारे वैज्ञानिक और डॉक्टर्स किसी से कम नहीं हैं। हम मौसम का सटीक पूर्वानुमान लगाने के मामले में दुनिया में चौथे नंबर पर हैं। उन्होंने कहा कि साइंस के क्षेत्र में रिसर्च करने वालों का हम स्वागत करते हैं। अगर कोई ऐसे नए इनोवेशन या रिसर्च के साथ आता है जिससे समाज को फायदा हो सकता है तो सरकार उन्हें हर संभव मदद देने को तैयार है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में इतने लम्बे समय से काम करने के बाद मै कह सकता हूँ कि भारत जैसे विशाल देश में स्वास्थ्य क्षेत्र में बहुत कुछ किये जाने कि जरुरत है। हेल्थ और शीघ्र निदान के क्षेत्र में हमारी कोशिश होनी चाहिए कि नए शोध का फायदा जल्द से जल्द लोगों को मिले। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में आज सरकार वैज्ञानिकों, डाक्टरों के लिए जरुरी सुविधा उपलब्ध कराने के लिए और उनके उपकरणों पर काफी पैसा खर्च कर रही है, ताकि विज्ञान का लाभ समाज को मिल सके। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि पिछले पांच वर्षों के दौरान में देशभर की कई प्रयोगशालाओं में गया जहाँ बड़े- बड़े आविष्कार बहुत कम सुविधाओं के बीच किये गए हैं। आज सरकार वैज्ञानिकों, चिकित्सकों को रिसर्च के लिए हर संभव मदद दे रही है।