Use natural resources judiciously to avoid its depletion and scarcity: Dr Harsh Vardhan


India has called for judicious use of natural resources to address resource depletion and scarcity. Addressing the 4th BRICS Ministerial meeting in Durban, South Africa on Friday (May 18), Minister for Environment, Forest & Climate Change Dr Harsh Vardhan suggested, this could be possible through Resource Efficiency not only throughout material life cycle, but at post-consumption state as well. He said, secondary resources or waste material should be brought back into production to adopt Circular Economy Approach – regenerating materials into a closed loop system, rather than the conventional system of use once and discard.


Durban (South Africa) - India has called for judicious use of natural resources to address resource depletion and scarcity. Addressing the 4th BRICS Ministerial meeting in Durban, South Africa on Friday (May 18), Minister for Environment, Forest & Climate Change Dr Harsh Vardhan suggested, this could be possible through Resource Efficiency not only throughout material life cycle, but at post-consumption state as well. He said, secondary resources or waste material should be brought back into production to adopt Circular Economy Approach – regenerating materials into a closed loop system, rather than the conventional system of use once and discard.

डरबन (दक्षिण अफ्रीका)। भारत ने सिमटते प्राकृतिक संसाधनों के मद्देनजर उसके विवेकपूर्ण इस्तेमाल का ब्रिक्स देशों से आह्वान किया। दक्षिण अफ्रीका के डरबन में आयोजित चौथे ब्रिक्स मंत्री स्तरीय बैठक को शुक्रवार को संबोधित करते हुए केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने सुझाव दिया कि सीमित संसाधनों पर बढ़ते दबाव को कम करने के लिए संसाधनों की दक्षता को बढ़ाना होगा और उपभोग के बाद की अवस्था में भी इसका ख्याल रखना होगा। उन्होंने कहा कि संसाधनों का कुशल उपयोग कर कम संसाधन से अधिक उत्पादन को सुनिश्चित किया जाना चाहिए। यहां तक कि कचरों को भी संसाधन में तब्दील करने की नीति पर काम किया जाना चाहिए। उन्होंने सर्कुलर इकोनॉमी की हिमायत की जिसके तहत एक बार व्यवहार हो चुके संसाधन को दोबारा व्यवहार करने की प्रक्रिया में शामिल किया जाए ना कि एक व्यवहार होने के बाद ही उसे कचरे में फेंक दिया जाए।  

Dr Harsh Vardhan said resource efficiency and circular economy are key elements of Sustainable Development, hence there is global commitment to achieve it.

The minister said, India is committed to achieving its targets under various global commitments on environment through its own efforts and country partnerships. He urged BRICS countries to commit to cooperation and collaboration on technology transfer, capacity building and knowledge transfer at the country, regional and global levels. BRICS countries can also complement, facilitate access to and provide adequate information on existing science, technology and innovation platforms, avoiding duplications and enhancing synergies.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सतत विकास के लिए संसाधनों की दक्षता और सर्कुलर इकोनॉमी महत्वपूर्ण तत्व हैं और इसलिए इस लक्ष्य को पाने के लिए दुनिया भर के देश प्रतिबद्ध हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत पर्यावरण को लेकर वैश्विक प्रतिबद्धताओं और अपने प्रयासों के आधार पर लक्ष्य की प्राप्ति के लिए समर्पित है। उन्होंने ब्रिक्स देशों से क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर बौद्धिक साझेदारी, तकनीकी हस्तांतरण व क्षमता विकास के मुद्दे पर सहयोग और गठबंधन की अपील की।   

Dr Harsh Vardhan said, India is trying to develop a societal movement through Green Good Deeds, which are small positive actions to be performed by individuals or organisations to strengthen the cause of environmental protection.

“We are asking people to alter their behaviour to Green Good Behaviour to fulfil their Green Social Responsibility,” said Dr Harsh Vardhan. He invited BRICS countries to jointly develop a social movement, which could be emulated by the rest of the world.

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि भारत पर्यावरण संरक्षण के लिए ग्रीन गुड डीड्स मुहिम के जरिए व्यापक आंदोलन खड़ा कर रहा है, जिसमें देश का हर नागरिक अपने छोटे-छोटे पर्यावरण हितैषी प्रयासों के जरिए अपना योगदान करेगा।

Dr Harsh Vardhan said, India is keen to take forward initiatives on air quality management and would like to clearly prioritise it. He said BRICS countries should together emphasis on cooperation on air pollution control through technology transfer and capacity building.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत हवा गुणवत्ता प्रबंधन पर पहल का इच्छुक है। उन्होंने इस विषय पर भी ब्रिक्स देशों से आपसी सहयोग का आह्वान किया।

Referring to World Environment Day 2018, for which India is the global host, the minister urged BRICS countries to work together on issues related to plastic pollution and promoting improved life cycle management of plastic products, which is a key factor in circular economy.  ‘Beat Plastic Pollution’ is the theme of this edition of World Environment Day.

विश्व पर्यावरण दिवस- 2018 की भारत की मेजबानी का जिक्र करते हुए केंद्रीय मंत्री ने ब्रिक्स देशों से प्लास्टिक प्रदूषण पर साथ मिलकर काम करने का आह्वान किया और उन्नत प्लास्टिक उत्पादों को विकसित करने को कहा। उल्लेखनीय है कि इस बार विश्व पर्यावरण दिवस का थीम बीट प्लास्टिक पॉल्यूशन है।