UN agency lauds India’s organisation of World Environment Day


United Nations Environment Programme (UNEP) has lauded India’s organisation of World Environment Day this year. India is the global host of this edition of the celebrations alongwith UNEP and Prime Minister Narendra Modi will address the main function tomorrow in New Delhi.


New Delhi (June 04) – United Nations Environment Programme (UNEP) has lauded India’s organisation of World Environment Day this year. India is the global host of this edition of the celebrations alongwith UNEP and Prime Minister Narendra Modi will address the main function tomorrow in New Delhi.

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) ने इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस पर बड़े पैमाने पर आयोजित कार्यक्रमों के लिए भारत की प्रशंसा की। भारत यूएनईपी के साथ समारोह के इस संस्करण की मेजबानी कर रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को नई दिल्ली में मुख्य समारोह को संबोधित करेंगे।

Addressing a conference on The Knowledge Coalition – International Conversations in the run up to the World Environment Day, Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan said, UNEP Chief Erik Solheim has told him, the ongoing series of engagements relating to World Environment Day is the most impressive ever, since the first celebration in 1974.

“Mr Erik has told me in private that what India has done on this World Environment Day is far more impressive than any other country since 1974 (when the first World Environment Day was celebrated). That makes our day,” Dr Harsh Vardhan told an international audience.

पर्यावरण दिवस के मद्देनजर जानकारी की साझेदारी के लिए आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि यूएनईपी के प्रमुख एरिक सोलेम ने उन्हें बताया कि विश्व पर्यावरण दिवस को लेकर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की श्रृंखला को देख वे खासे प्रभावित हैं और उनके अनुसार 1974 से लेकर आज तक किसी भी देश में इस पैमाने पर कार्यक्रम का आयोजन नहीं हुआ था। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सोलेम की यह तारीफ मायने रखती है और इससे सबका उत्साह बढ़ा है।

The session was on India’s Natural Capital: Assessment and Accounting for Achieving the Sustainable Development Goals.

Dr Harsh Vardhan said, so far the debate has been only on Gross Domestic Product, a monetary measure of the market value of all final goods and services produced in a period of time. But there is no national resource accounting. He however, said the process to begin such a system is in the offing.

“In India also we are already in the process of conducting an environmental survey about all these issues, but the very fact that for the first time we are going to account for all this, I think speaks volumes,” said the minister.

यह सत्र भारत की प्राकृतिक राजधानीः सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने के लिए आकलन और लेखा विषय पर आयोजित था।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब तक बहस सिर्फ सकल घरेलू उत्पाद पर होती रही है, जो कि निश्चित समयावधि में उत्पादित सभी अंतिम उत्पादों और सेवाओं की बाजार दर का मूल्यांकन है। लेकिन राष्ट्रीय संसाधनों की एकाउंटिंग की कोई व्यवस्था नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस तरह की एक प्रणाली शुरू करने की प्रक्रिया बंद पड़ी है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण सर्वेक्षण की प्रक्रिया की तैयारी हमने शुरू कर दी है, लेकिन यह पहली बार है कि हम इस तरह का प्रयास कर रहे हैं।

Erik Solheim said, there was a convergence of approach between UN Environment Programme and the present leadership in India on addressing environmental issues. He said, the campaign to address it should be people-centric and therefore, Dr Harsh Vardhan’s “Green Good Deeds” fits into that mould.  

“Present government and leadership in India and the UN Environment have shared approach to environmental problems. This is, “can do” approach, how we can change it. It must be a people-centric approach, how do we set our environment issues, so that it resonates with the people – in the leadership of Bihar or the streets of Mumbai or Chennai. It cannot be theatrical or in cyber space, but right down there at the kitchen table in the simple language for focussing on issues that people are interested, like plastic pollution and also focussing on what political leaders and business can do, but also what the individuals can do. That’s why I am strongly in favour of Dr Harsh Vardhan’s approach of “Green Good Deeds”, which is what people can do in their daily lives to change their daily lives. When so many people do it, that changes the atmosphere of the society and put some pressure on political leadership and business to change,” said Solheim.

एरिक सोलेम ने इस मौके पर पर्यावरण मुद्दों को संबोधित करते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम और भारत के वर्तमान नेतृत्व का पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर एक-सा रुख है। उन्होंने कहा कि इस अभियान को लोगों पर केंद्रित होना चाहिए और इसलिए डॉ. हर्ष वर्धन के ग्रीन गुड डीड्सइस लिहाज से उपयुक्त हैं। उन्होंने कहा कि जब हर व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में एक-एक ग्रीन गुड डीडअपनाएगा तो बड़ी संख्या में लोगों की भागीदारी से  परिवर्तन नजर आने लगेगा।

Ministry of Environment, Forest & Climate Change and the UN Environment Programme have jointly organised a series of programmes involving state governments, government agencies, PSUs, corporate, NGOs and schools, culminating in World Environment Day on June 5. 

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने संयुक्त रूप से राज्य सरकारों, सरकारी एजेंसियों, पीएसयू, कॉर्पोरेट, एनजीओ और स्कूलों के साथ मिलकर संयुक्त रूप से कार्यक्रमों की एक श्रृंखला का आयोजन किया है, जिसका समापन 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर होगा।