Practice politics with dignity: Dr Harsh Vardhan


Releasing a book titled Sansadeeya Sachivon Ka Sachh (Inside Story), written by S.K. Sharma, former Secretary Lok Sabha and Delhi Legislative Assembly, he said societal and national interests should be kept above political obduracy.


New Delhi (June 07)- Science & Technology Minister Dr. Harsh Vardhan said, politics should be practiced with dignity, treating even leaders from opposing ideologies with respect. Releasing a book titled Sansadeeya Sachivon Ka Sachh (Inside Story), written by S.K. Sharma, former Secretary Lok Sabha and Delhi Legislative Assembly, he said societal and national interests should be kept above political obduracy.

नई दिल्ली। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि राजनीति में मर्यादा का ख्याल रखा जाना चाहिए। अलग विचारधारा के विपक्षी नेताओं के साथ भी सम्मानपूर्ण व्यवहार होना चाहिए। दिल्ली विधानसभा और लोकसभा के पूर्व सचिव एसके शर्मा की पुस्तक संसदीय सचिवों का सच (अंदर की बात) के विमोचन के मौके पर गुरुवार को उन्होंने कहा कि राजनीति राष्ट्र की सेवा, समाज व जनता की सेवा का माध्यम और राष्ट्रहित को राजनीति से ऊपर रखना चाहिेए।  

The book dwells on various aspects of appointment of Parliamentary Secretaries by AAP Government in Delhi. Former Delhi Chief Minister Sheila Dixit and former Lok Sabha Secretary General Subhash Kashyap were also present on the occasion.

इस पुस्तक में दिल्ली की आप सरकार द्वारा संसदीय सचिवों की नियुक्तियों के विभिन्न पहलुओं को दर्शाया गया है। इस कार्यक्रम में दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और पूर्व लोकसभा महासचिव सुभाष कश्यप भी मौजूद थे।

Dr Harsh Vardhan recalled how BJP had held hundreds of protests, demonstrations, dharnas, press conferences, when Sheila Dixit was Chief Minister of Delhi. But that was against her policies and Sheila Dixit was held in high esteem then and now. People of Delhi miss her as much as we miss another former Chief Minister Madan Lal Khurana, he added.  

“Even today people of Delhi miss Sheila Dixit, the way we miss Madan Lal Khurana. The right way of practicing politics should be like this. In real sense, politics is a means for service – social, humanitarian and national. We have taken inspiration from people like Pandit Deen Dayal Upadhyay. There is no place for situations, which led to writing of this book in our scheme of politics,” he said.  

डॉ. हर्ष वर्धन ने याद करते हुए कहा भाजपा ने शीला दीक्षित के मुख्यमंत्रित्व काल में अनगिनत धरना, प्रदर्शन और विरोध किए, लेकिन वे सब उनकी नीतियों के खिलाफ थे। शीला दीक्षित का हम पहले भी काफी सम्मान करते थे और आज भी करते हैं। दिल्ली के लोग जिस तरह मदन लाला खुराना को याद करते हैं, उसी तरह शीला दीक्षित को भी याद करते हैं। उन्होंने कहा कि राजनीति सेवा का माध्यम है और कुछ नहीं। हमने तो पंडित दीनदयाल उपाध्याय जैसे व्यक्तित्व से प्रेरणा ग्रहण की।

Referring to former President Pranab Mukherjee’s decision to attend a function at Rashtriya Swayamsevak Sangh Headquarters in Nagpur around the time, he said politics should not be attributed to his decision.

“He did not have any hesitation to go to RSS function, because politics or any other field, the important aspect is national responsibility or Rashtra Dharm. Those in politics should work above myopic political prism,” said Dr Harsh Vardhan.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के नागपुर के कार्यक्रम में शामिल होने के निर्णय पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। राष्ट्रधर्म सर्वोपरि है, उसे किसी राजनीतिक चश्मे से देखने की कोशिश नहीं होनी चाहिए।

The minister said, if politicians work without prejudices, it would do good for themselves, for the society and the country. Only then, they could address the real issues facing the society and the nation. If ruling and opposition parties give up their obduracy, many issues relating to the society and the nation could be resolved. He suggested to many political leaders from Delhi present on the occasion to work together to restore the prestige of the national capital. 

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि यदि राजनेता किसी पूर्वाग्रह से ग्रस्त हुए बिना कार्य करें तो वह उनके लिए, समाज के लिए और राष्ट्र के लिए बेहतर होगा। और सही मायने में तभी मुद्दों के समाधान की दिशा में वे आगे बढ़ सकेंगे। यदि राजनीति को परे रखकर पक्ष और विपक्ष गंभीरता से किसी समस्या को सुलझाने का प्रयास करें तो मुझे लगता है कि अधिकांश मुद्दे सुलझ जाएंगे। उन्होंने दिल्ली के नेताओं से राजधानी के गौरव को अक्षुण्ण रखने के लिए साथ मिलकर काम करने की अपील की।