Need S&T based solutions to enhance competitiveness of India: Dr Harsh Vardhan


During a roundtable discussion on models of public-private partnership at the Technical University of Denmark (DTU) in Kongens Lyngby, north of Copenhagen, Denmark, he said India wants universal technology contextualised to local roles.


Copenhagen, Denmark – Science and Technology Minister Dr Harsh Vardhan has sought science and technology based innovative solutions to enhance competitiveness of India. During a roundtable discussion on models of public-private partnership at the Technical University of Denmark (DTU) in Kongens Lyngby, north of Copenhagen, Denmark, he said India wants universal technology contextualised to local roles.

“We do not believe in reinventing the wheel and fully realize that global experience could come in handy to address our challenges,” said Dr Harsh Vardhan. “We are also confident that collaborative research could leverage experience and expertise hitherto not available in the country and has tremendous potential to enhance our capacity in these hi-tech areas,” he added.

कोपेनहेगन, डेनमार्क। केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने भारत की प्रतिस्पर्धात्मकता बढ़ाने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी आधारित अभिनव समाधान मांगा है। कोपेनहेगन, डेनमार्क के उत्तर में कॉंगेंस लिंग्बी में तकनीकी विश्वविद्यालय, डेनमार्क (डीटीयू) में सार्वजनिक-निजी साझेदारी के मॉडल पर एक गोलमेज चर्चा के दौरान, उन्होंने कहा कि भारत स्थानीय भूमिकाओं के संदर्भ में सार्वभौमिक प्रौद्योगिकी चाहता है।

The minister and other members of the delegation were hosted by the President of the University, Anders Bjarklev and academic leadership. He was in Denmark to attend the Mission Innovation Ministerial meeting.

केंद्रीय मंत्री और प्रतिनिधिमंडल के अन्य सदस्यों का यूनिर्विसिटी के अध्यक्ष ने स्वागत किया। एंडर्स बर्कले ने मिशन इनोवेशन मंत्रिस्तरीय बैठक में भी शिरकत की थी।

Dr Harsh Vardhan said, India need “science and technology based innovative solutions” to enhance competitiveness of our nation through national missions on Namami Gange, Swaccha Bharat and Swastha Bharat. “There are several challenges which we face in realizing these mission objectives. Our research capacities and scientific prowess augmented with global advancements can significantly enhance effectiveness of these Missions,” he told the scientists of DTU

डॉ. हर्ष वर्धन ने वैज्ञानिकों से कहा कि भारत को प्रौद्योगिकी आधारित अभिनव समाधान की जरूरत है। देश की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय मिशन नमामि गंगे, स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत जैसे राष्ट्रीय मिशन के उद्देश्यों को पूरा करने की राह में तमाम अड़चने आती हैं। लेकिन तकनीकी दक्षता के साथ वैश्विक अभिनव शोधों को मिलाकर इन मिशन के उद्देश्यों को सफलता पूर्वक हासिल किया जा सकता है। 

Dr Harsh Vardhan said though India is a land of immense potential and unparalleled opportunities, accelerated growth rates and pace of development have led to degradation in the environment and quality of drinking water and soil. “Growing and non­-uniform urbanization coupled with changing lifestyles, though necessary, have led to many problems hitherto unknown,” he said. These issues need to be addressed immediately if our human development indices are to advance any further, said Dr Vardhan.  

DTU, founded as Denmark’s first polytechnic, is today ranked among Europe’s leading engineering institutions. It’s niche research areas include clean energy, smart grids and biotechnology.

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा, हालांकि भारत में अपार संभावनाएं हैं और असीमित अवसर हैं। लेकिन तेजी से विकास के कारण जहां पर्यावरण प्रभावित हुआ, वहीं पीने के पानी की गुणवत्ता और मिट्टी की गुणवत्ता भी प्रभावित हुई। उन्होंने कहा कि तेजी से शहरीकरण और बदलती जीवनशैली की वजह से समस्याएं बढ़ी हैं। ऐसे में तत्काल इस दिशा में कार्रवाई की जरूरत है।

गौरतलब है कि डीटीयू डेनमार्क का पहला पॉलिटेक्निक संस्थान है और आज के दिन इसकी यूरोप के अग्रणी संस्थानों में गिनती होती है। यहां स्वच्छ ऊर्जा, स्मार्ट ग्रिड और बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में शोधकार्य हो रहे हैं।