Dr Vardhan urges Vijnana Bharati members to become Green Ambassadors


Dr Harsh Vardhan has urged members of Vijnana Bharati to become Green Ambassadors in the campaign against plastic pollution and promote Green Good Deeds.


Bengaluru (June 09) – Science & Technology; Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan has urged members of Vijnana Bharati to become Green Ambassadors in the campaign against plastic pollution and promote Green Good Deeds. Inaugurating a national conference to mark the 25 years of formation of Vijnana Bharati – VIBHA at Christ University in Bengaluru, he said he can’t think of better activists in these campaigns than those committed to Vijnana Bharati. 

बेंगलूरू (9जून) केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने विज्ञान भारती से आग्रह किया कि वह प्लास्टिक पॉल्यूशन के खिलाफ एवं ग्रीन गुड डीड्स को बढ़ावा देने के लिए अपने सदस्यों को ग्रीन एंबेसडर बनाए केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन विज्ञान भारती-विभा’ की स्थापना के 25 वर्ष पर आयोजित एक राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मेरा मानना हैविज्ञान भारती के संकल्पों में प्लास्टिक पॉल्यूशन के खिलाफ एवं ग्रीन गुड डीड्स जैसे अभियान भी बेहतरीन संकल्प हो सकते हैं सम्मेलन का आयोजन बेंगलूरू के क्राइस्ट विश्वविद्यालय में किया गया था    

Vijnana Bharati is the largest swadeshi science movement in India. It was started in Indian Institute of Science, Bengaluru (then Bangalore) by a few eminent scientists under the guidance of Prof. K.I. Vasu. The movement gradually gained momentum and emerged as a national organisation.

विज्ञान भारती’ भारत का एक स्वदेशी विज्ञान आंदोलन है इसकी शुरुआत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बेंगलूरू के कुछ वैज्ञानिकों ने प्रो. के. आई. वासु के दिशा-निर्देश में की थी इस आंदोलन की गति समय के साथ बढ़ती गई और यह आंदोलन एक राष्ट्रीय संस्था के रूप में स्थापित हुई

Dr Harsh Vardhan felicitated Prof. Vasu and founding members of Vijnana Bharati. He also released a souvenir to mark the 25 Years of Vijnana Bharati.

केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने इस अवसर पर प्रो. वासु  और विज्ञान भारती के संस्थापक सदस्यों का अभिनंदन किया उन्होंने ने विज्ञान भारती के 25 साल की उपलब्धियों पर प्रकाशित स्मारिका का लोकार्पण भी किया

In his inaugural address the minister said, India has been in the forefront of global efforts to mitigate climate change and global warming. He said, at the just concluded World Environment Day, he had announced the government’s decision to make India free from single use plastics by 2022. India was the global host of this edition of World Environment Day and “Beat Plastic Pollution” was the central theme. Dr Harsh Vardhan also told the audience about his personal pledge to completely do away with single use plastic for the rest of his life.

सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के वैश्विक प्रयासों में भारत अग्रणी रहा है विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सरकार ने संकल्प लिया है कि 2022 तक भारत, एक बार प्रयोग होने वाले प्लास्टिक से मुक्त हो जाएगा इस साल बीट प्लास्टिक पॉल्यूशन विषय पर विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन किया गया था भारत वैश्विक मेजबानी कर रहा था उन्होंने लोगों से कहा कि आप स्वयं प्रतिज्ञा लें कि अपने जीवन में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करेंगे

Dr Harsh Vardhan said, plastic today is the biggest threat to environment and a major hazard to animals, marine lives and even human beings. He said, World Environment Day celebrations in India were by far the most remarkable one since its inception in 1974.

केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि वर्तमान में प्लास्टिक पर्यावरण के लिए एक बड़े खतरे का संकेत है जबकि यह मानव, जीव-जंतु एवं समुद्री जीवों के लिए बेहद ही खरतनाक है 1974 से अब तक हुए विश्व पर्यावरण दिवस के आयोजनों में इस वर्ष का आयोजन ऐतिहासिक रहा है