Dr Vardhan urges AoL community to become warriors against plastic


During an interactive session organised by Art of Living and UN Environment Programme on World Environment Day (June 05), he said, World Environment Celebrations was the beginning of the end of single use plastic in India. India was the global host of this edition of the celebrations.


New Delhi (June 05) – Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan has urged the Art of Living community to join his war against pollution, particularly plastic pollution.  During an interactive session organised by Art of Living and UN Environment Programme on World Environment Day (June 05), he said, World Environment Celebrations was the beginning of the end of single use plastic in India. India was the global host of this edition of the celebrations.

नई दिल्ली (जून 5) केंद्रीय पर्यवारण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग से प्रदूषण के खिलाफ मुहिम में जुड़ने की अपील की है। उन्होंने कहा कि खासकर प्लास्टिक प्रदूषण के खिलाफ इस युद्ध का हिस्सा बनें। वे आर्ट ऑफ लिविंग और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण की ओर से आयोजित एक चर्चा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक को खत्म करने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस का भारत में आयोजन से एक शुरुआत था। दरअसलबीट प्लास्टिक पॉल्यूशन विषय पर भारत विश्व पर्यावरण दिवस की वैश्विक मेजबान है।

“I want all of you to pledge in front of Guruji (Sri Sri Ravi Shankar) that from today itself, you will never forget in your life, every moment, what is your green social responsibility and accordingly mend your ways, actions and your habits to green good behaviour,” urged Dr Harsh Vardhan.

उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि मैं चाहता हूं कि आप सभी लोग गुरु जी (श्री श्री रवि शंकर) की उपस्थिति में शपथ लें कि आज से ही अपने जीवन में कभी भूलेंगे नहीं कि प्रकृति के प्रति आप सब की क्या सामाजिक जिम्मेवारी है। इनके अनुरूप अपने जीवन में सुधार लाएंगे और ग्रीन गुड बिहेवियर के प्रति काम करेंगे और आदत में शुमार करेंगे।

Sri Sri Ravi Shankar said, plastic pollution a serious crisis threatening the future of our planet. Each individual can contribute to solve this problem. He said, on World Environment Day, the Art of Foundation family has taken a pledge to reduce plastic consumption by more than half.

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ने कहा कि भविष्य में पृथ्वी के लिए प्लास्टिक प्रदूषण एक गंभीर खतरे का संकेत हैं। हर व्यक्ति को इसके समाधान में योगदान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्व पर्यवारण दिवस के दिन आर्ट ऑफ फाउंडेशन परिवार यह प्रतिज्ञा किया है कि प्लास्टिक के प्रयोग को आधा करेंगे।

Dr Harsh Vardhan reiterated to the audience, mostly followers of Sri Sri Ravi Shankar, his statement at the World Environment Day plenary session that India would eliminate single use plastics by 2022. On a personal front, he told them about his pledge to completely do away with single use plastics.

डॉ. हर्ष वर्धन ने पर्यावरण दिवस के मुख्य समारोह में दिए गए वक्तव्य को दोहराते हुए श्रीश्री रविशंकर के अनुवाइयों के साथ सभी दर्शकों से कहा कि भारत 2022 तक एक बार प्रयोग में आने वाले प्लास्टिक से निजात पा सकता है। उन्होंने कहा कि निजी तौर पर प्रण लिया हूं कि सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त रहूंगा। 

On a question about government’s action plan on plastic pollution, the minister told the audience, his Ministry is working on many fronts to bring synergy among users, manufactures and the state governments to combat the evil of plastic pollution.

सरकारी स्तर पर प्लास्टिक पॉल्यूशन की योजना के एक सवाल पर केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि मंत्रालय,  उपभोक्ताओं, उत्पादनकर्ताओं एवं राज्य सरकारों के साथ तालमेल बैठाकर अनेक मोर्चों पर प्लास्टिक प्रदूषण को लेकर कदम उठाए गए हैं।

Chief of UN Environment Programme Erik Solheim and the Minister of State for Environment, Forest & Culture Dr Mahesh Sharma also participated in the interactive session.

समारोह में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के प्रमुख एरिक सोलेम एवं पर्यावरण, वन एंव जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री डॉ. महेश शर्मा शामिल थे।