Dr Vardhan reviews preparedness for World Environment Day programmes


Prime Minister Narendra Modi is expected to inaugurate the national celebrations, followed by an exhibition by Ministry of Environment, Forest & Climate Change, Central Ministries and State-run enterprises, State Governments and Union Territories and Environmental Agencies.


New Delhi – Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan today (May 14) reviewed the preparations for World Environment Day 2018 celebrations. India is the global host for the celebrations. Dr Harsh Vardhan had a meeting with officials of the ministry, representatives of UN Environment Programme and FICCI.

नई दिल्ली। केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने सोमवार को विश्व पर्यावरण दिवस 2018 के कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। उल्लेखनीय है कि भारत इस बार इसकी मेजबानी कर रहा है। डॉ. हर्ष वर्धन ने मंत्रालय के अधिकारियों, संरा पर्यावरण कार्यक्रम के प्रतिनिधि और फिक्की के साथ बैठक की।

Prime Minister Narendra Modi is expected to inaugurate the national celebrations, followed by an exhibition by Ministry of Environment, Forest & Climate Change, Central Ministries and State-run enterprises, State Governments and Union Territories and Environmental Agencies. The exhibition is planned to extend a week, so that a large number of people from the national capital region could visit it.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस मौके पर राष्ट्रीय समारोह का उद्घाटन करने की संभावना है। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, मंत्रालयों और राज्य सरकारों की ओर से सप्ताहव्यापी प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा।

Participation of several countries are expected at the global level event in New Delhi. The theme of this year’s edition of World Environment Day is “Beat Plastic Pollution”, as the world is coming together to combat single-use plastic pollution.

कार्यक्रम में दुनिया के विभिन्न देशों से प्रतिनिधिओं के दिल्ली में उपस्थित होने की संभावना है। इस वर्ष पर्यावरण दिवस का थीम बीट प्लास्टिक पॉल्यूशनहै।

Addressing the meeting, Dr Harsh Vardhan stressed the celebrations should not be on a symbolic mode, but on a dynamic mode to make it a people’s movement.

During the week-long celebrations, there would also be a conference of State Environment Ministers, round-table meetings with State Ministers and experts from the field of environment.  

बैठक को संबोधित करते हुए डॉ. हर्ष वर्धन ने इस बात पर जोर दिया कि यह आयोजन महज सांकेतिक हो बल्कि लोगों के बीच इससे जागरूकता फैले और यह जन-जन का अभियान बने। एक सप्ताह तक चलने वाले कार्यक्रमों में राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों का सम्मेलन, राज्य के मंत्रियों और विशेषज्ञों के बीच गोलमेज बैठक भी आयोजित होगी।


(For more photos/videos go to photo albums/video gallery)