Adopt “Green Good Deeds” for waste management: Dr Harsh Vardhan


New Delhi – Ahead of the conclusion of the yearlong celebration of the centenary of Champaran Satyagraha by Mahatma Gandhi, Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan has called for adopting “Green Good Deeds” for waste management and cleanliness. Champaran Satyagraha by Gandhiji had special attention to sanitation, education and primary health-care. Prime Minister Narendra Modi will address the concluding function on April 10, 2018 at Motihari in Bihar.


New Delhi – Ahead of the conclusion of the yearlong celebration of the centenary of Champaran Satyagraha by Mahatma Gandhi, Environment, Forest & Climate Change Minister Dr Harsh Vardhan has called for adopting “Green Good Deeds” for waste management and cleanliness. Champaran Satyagraha by Gandhiji had special attention to sanitation, education and primary health-care. Prime Minister Narendra Modi will address the concluding function on April 10, 2018 at Motihari in Bihar.

नई दिल्ली। केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सह पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने पर्यावरण की रक्षा के लिए ग्रीन गुड डीड्समुहिम की शुरुआत की है। वे पर्यावरण संरक्षण की अपनी इस मुहिम को जन संचार के माध्यमों के जरिए देशभर में पहुंचाना चाहते हैं।

Urbanization has resulted in several issues, like waste disposal and management. Unscientific disposal of urban waste results in environmental pollution and health hazards. To bring this into public attention, Dr Harsh Vardhan has launched “Green Good Deeds” as a national campaign in January this year.

आधुनिक जीवनशैली ने जहां एक ओर जीवन को आसान और सुख-सुविधा संपन्न बनाया है, वहीं दूसरी ओर कचरों का खतरा भी बढ़ाया है। मौजूदा समय में कचरों का उचित निपटान भी बड़ी समस्या है क्योंकि इसकी वजह से पर्यावरण बुरी तरह प्रदूषित हो रहा है।

इस गंभीरता के मद्देनजर मौजूदा समय में टेलीविज़न और रेडियो जागरूकता फैलाने के लिहाज़ से काफी प्रभावी माध्यम हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय मंत्री रेडियो जिंगल और टेलीविज़न स्पॉट के जरिए लोगों तक पर्यावरण रक्षा का संदेश पहुंचा रहे हैं। उनके नेतृत्व में पर्यावरण मंत्रालय ने 500 से भी अधिक ग्रीन गुड डीड्सकी सूची तैयार की है, जिसे अपनाकर कचरों से होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लगाया जा सकता है। 

The minister has appealed to people to follow 4Rs in their daily life – Reduce, Re-use, Recycle and Recover, to bring down, especially plastic. India is partner to the United Nations for the global observance of World Environment Day this year and the theme is “Beat Plastic Pollution”.

केंद्रीय मंत्री ने कचरों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए लोगों को ग्रीन गुड डीड्स अपनाने की सलाह दी है। उन्होंने लोगों से दैनिक जीवन में चार आरयानी रीड्यूस, रीयूज़, रीसाइकल और रीकवर के इस्तेमाल को सुनिश्चित करने की अपील की है।

उन्होंने कचरा प्रबंधन के प्रति जागरूकता फैलाने के मकसद से लोगों से रीसाइकल कचरों के लिए नीला कूड़ेदान और ऑर्गेनिक कचरों के लिए हरे कूड़ेदान का इस्तेमाल करने की अपील की है। केंद्रीय मंत्री ने लोगों से अपील की है कि वे कूड़े को खुले स्थान में जलाएं और सब्जी और फलों के छिलकों को अपने बागान में या गमलों में जैव खाद बनाने के लिए इस्तेमाल करें। डॉ. हर्ष वर्धन ने लोगों को अधिक से अधिक रीचार्जेबल बैटरी का इस्तेमाल करने को कहा और सावाधानी पूर्वक -वेस्ट और अन्य संबंधित वस्तुओं पर प्रकाशित निर्देशानुसार ही निपटान की सलाह दी।

The Environment, Forest & Climate Change Ministry has drawn up about 500 small deeds, which if followed by the entire population could add up to considerably reducing pollution and protecting environment in India. 

डॉ. हर्ष वर्धन ने यह विश्वास जताया है कि यदि देश का हर नागरिक इन छोटे-छोटे ग्रीन गुड डीड्स को अपने दैनिक जीवन में अपनाता है तो पर्यावरण की रक्षा की दिशा में यह एक महत्त्वपूर्ण योगदान होगा